Blog

बच्चों को निमोनिया: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

परहेज और आहार
 
लेने योग्य आहार

  • यदि आपका बच्चा 12 माह के कम आयु का है तो स्तन दुग्ध या फार्मूला दिया जा सकता है।
  • यदि आपका शिशु 12 माह से अधिक आयु का है तो संपूर्ण दूध दिया जा सकता है।
  • गर्म चाय, लेमोनेड, सेब का रस या चिकन का शोरबा, हवा आने-जाने वाले मार्ग को आराम देता है, और बलगम को ढीला करता है।
  • उच्च कैलोरी और उच्च प्रोटीन वाले आहार जैसे माँस, मछली, अंडे, फलियाँ, पनीर, तेल, मक्खन, सलाद की ड्रेसिंग और पीनट बटर।
  • फल और सब्जियाँ जैसे ब्रोकोली, टमाटर, गाजर, शिमला मिर्च, संतरे, सेब और खरबूज-तरबूज आदि।
  • साबुत अनाज जैसे नाश्ते वाला दलिया, सम्पूर्ण आटे की ब्रेड, पास्ता और चावल।

इनसे परहेज करें

  • मैदा, सफ़ेद शक्कर और उनसे बने उत्पाद ना लें।
  • वसायुक्त और मसालेदार आहार ना लें।
  • रिफाइंड स्टार्च और शक्कर के सभी प्रकार, पाश्चुरीकृत दूध, डेरी के सभी उत्पाद, पके हुए सभी आहार।

घरेलू उपाय (उपचार)

  • आवश्यक टीकाकरण (इन्फ्लुएंजा का टीका, न्यूमोकोकल सम्पूर्ण टीका, पालीसेकेरिड टीका)।
  • नमीकारक यन्त्र के प्रयोग द्वारा गर्म और नम की गई हवा चिपचिपे बलगम को ढीला करने में सहायता करती है।
  • तरल पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन।
  • उचित प्रकार से स्वच्छता बनाए रखना।

Courtesy:mtatva

Related Posts

You may like these post too

सर्दियों में नवजात शिशु की देखभाल

Child Care

मां बच्चों को अपना दूध जरूर पिलाएं, और ऐसा न करने का नुकसान|

baby mom

बच्चे का रंग गोरा करने के घरेलू उपाय

child

जो बच्चा चीजें भूल जाता है कहीं इस बीमारी का शिकार तो नहीं है

Leave a Reply

it's easy to post a comment