Blog

आप जिम जाते हैं? जानिये प्रोटीन सप्लीमेंट से जुड़ी तमाम जानकारियां

आजकल प्रोटीन सप्लीमेंट का बहुत प्रचलन है। जिम जाने वाले अधिकतर लोग सप्लीमेंट ले रहे हैं। लेकिन कुछ लोगों को इसे लेकर भ्रम है। हालांकि कुछ जिम ट्रेनर इसकी सलाह देते हैं। सवाल ये उठता है कि क्या पहली बार जिम जॉइन करने वाले व्यक्ति को भी सप्लीमेंट की आवश्यकता होती है? खैर, हम आपको अपने इस अर्टिकल में सप्लीमेंट से जुड़ी तमाम जानकारियां दे रहे हैं। इसे पढ़ने के बाद सप्लीमेंट से जुड़े आपके सारे भ्रम दूर हो जायेंगे। पढ़ें- व्हे प्रोटीन के साइड इफ़ेक्ट

प्रोटीन की किसे ज़रूरत होती है

प्रोटीन बॉडी निर्माण के लिए ज़रूरी होता है। एक सामान्य व्यक्ति को रोजाना 1 ग्राम/किलो बॉडी वेट प्रोटीन जबकि स्पोर्ट्सपर्सन को 1.2-1.5 ग्राम/किलो की आवश्यकता हो सकती है। इतना प्रोटीन आपको रोजाना की खुराक से नहीं मिल पाता है, इसलिए सप्लीमेंट की ज़रुरत होती है। इसे पचाना आसान है और ये पाउडर, बार, मील रिप्लेसमेंट आदि के रूप में मिलता है। आप इसे अपने ट्रेनर की सलाह पर ले सकते हैं। पढ़ें- बिना सप्लीमेंट लिये वजन कैसे
बढ़ाएं

ऐसे लोग जिन्हें अपने दैनिक आहार से आवश्यक प्रोटीन नहीं मिल पाता है, वो लोग प्रोटीन सप्लीमेंट ले सकते हैं जिम जाने वाले, विशेषकर वजन उठाने वाले लोगों को प्रोटीन सप्लीमेंट से फायदा होता है। इससे उन्हें टूटी मांसपेशियों को ठीक करने में मदद मिलती है। वेटलिफ्टिंग, बॉडीबिल्डिंग आदि करने वाले लोग प्रोटीन ले सकते हैं। वास्तव में ऐसे लोगों को प्रोटीन के साथ- सभी आवश्यक पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है। चोटिल खिलाड़ियों को अधिक प्रोटीन की जरूरत है, इससे उन्हें चोट से उबरने में मदद मिलती है।


कब और कितना प्रोटीन लें

वाले लोग बॉडी वेट के हिसाब से 1.2-1.5 प्रति किलो प्रोटीन ले सकते हैं। आईसीएमआर के अनुसार, प्रति किलो वजन के हिसाब से1 ग्राम प्रोटीन ले सकते हैं। इसे जूस, दूध और पानी के साथ लिया जाता है। अगर आप ज्यादा भारी काम करते हैं, तो आप दिन में तीन बार 25-30 ग्राम प्रोटीन ले सकते हैं। पढ़ें- बॉडी फैट घटाना है? खाएं कैल्शियम-विटामिन डी सप्लीमेंट

प्रोटीन की क्वालिटी कैसी हो
इसकी क्वालिटी बायोलॉजिकल वैल्यू के आधार पर मापी जाती है। प्रोटीन की बायोलॉजिकल वैल्यू शरीर द्वारा बेहतर तरीके से अवशोषित करने और इसे उपयोग करने के द्वारा मापी जाती है। इसका मतलब ये हुआ कि अगर बायोलॉजिकल वैल्यू ज्यादा है, तो इसमें दुबली मांसपेशियों के निर्माण की क्षमता अधिक होती है।

ये तीन फॉर्म में आता है

प्रोटीन कंसन्ट्रेट- ये सस्ता होता है और इसमें प्रोटीन की मात्रा 29 से 89 फ़ीसदी होती है और बाकी कार्बोहाइड्रेट, वसा, खनिज और पानी होता है।
प्रोटीन आइसोलेट- इसमें कम फैट, कार्बोहाइड्रेट कम होता है। ये खाद्य पदार्थों का एक सूखा मिश्रण होता है। इसमें प्रोटीन की मात्रा 95-98 फीसदी होती है।
प्रोटीन हाइड्रोलीसेट- ये प्री-डाइजेस्ट प्रोटीन आइसोलेट है, जिसे शरीर द्वारा तेजी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रोटीन के प्रकार

1. व्हे प्रोटीन2.सोया प्रोटीन
ये सोयाबीन से प्राप्त होता है। इसका टेस्ट अच्छा नहीं होता और पानी में कम घुलनशील होता है। सोया प्रोटीन में मौजूद (Phytoestrogens) से टेस्टोस्टेरोन में कमी और महिला सेक्स हार्मोन एस्ट्रोजन में वृद्धि करने में मदद मिली है। इसमें अर्गीनाइन और ग्लूटेमाइन जैसे अमीनो एसिड की मात्रा अधिक होती है। इससे उपचय वृद्धि (anabolic growth) हार्मोन के स्राव को उत्तेजित करने, मांसपेशी टूटने को रोककर मांसपेशियों को बनाए रखने में मदद मिलती है। सोया प्रोटीन में वसा और कोलेस्ट्रॉल में कम होता है और दिल के लिए भी अच्छा होता है। सोया प्रोटीन सोया प्रोटीन आइसोलेट, सोया फ्लौर, सोया मिल्क आदि रूप में उपलब्ध है।

3. कैसिइन प्रोटीन

कैसिइन एक कैल्शियम युक्त दूध प्रोटीन है, जो मांसपेशियों टूटने कम कर देता है और परोक्ष रूप से मांसपेशियों का निर्माण करने में मदद करता है। इसमें कैसिइन प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है। कैसिइन एक धीमी गति से पचने वाला प्रोटीन होता है और कई घंटे की अवधि में अमीनो एसिड के रिलीज के साथ लंबे समय तक ऊर्जा प्रदान करता है।

4.एग प्रोटीन- एग प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। ये प्रोटीन पाउडर फॉर्म में आता है। इसकी बायोलॉजिकल वैल्यू भी सबसे अधिक होती है। इसमें कम वसा और कार्बोहाइड्रेट और कोलेस्ट्रॉल होता है। इसे पचाना आसान है और धीरे-धीरे ऊर्जा मिलती है।

5.पी प्रोटीन- एक सब्जी वाला प्रोटीन है जो पी यानि मटर से बनता है। इससे किसी तरह की एलर्जी का खतरा कम होता है। इसमें ब्रांच एमिनो एसिड सहित सभी आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं। इसे पचाना आसान है। इसे वर्कआउट से पहले और बाद में खा सकते हैं।

Courtesy:Badybilding

Related Posts

You may like these post too

बिना जिम घर पर बॉडी कैसे बनाए घर पर जिम कैसे करे

gym

GYM जाते हैं तो इन 5 फूड को कतई न लगाएं हाथ, शरीर पर पड़ने लगेगा उलटा असर

क्या है स्क्वेट करने का सही तरीका ?

Health tips

Leave a Reply

it's easy to post a comment